सूचना एवं प्रसारण विभाग भारत सरकार से पंजीकृत - RNI UPHNI-5653/2001,54
Home - Rajyavaar 13-01-2018

ढाईघाट मेले में अलाव की चिनगारी से भीषण आग संत सहित परिवार के पांच सदस्य आग से झुलसे

फर्रूखाबाद: /शमसाबाद। में ढाईघाट के माघ मेले में शुक्रवार रात अलाव की चिनगारी से भीषण आग लग गई। एक संत की झोपड़ी सहित चार राउटियां जलकर राख हो गईं। संत सहित परिवार के पांच सदस्य आग से झुलस गए। इन्हें इलाज के लिए लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आग लगने से दो लाख से अधिक की नगदी जलकर राख हो गई।

ढाईघाट के माघ मेले में हरिओम गिरि जूना अखाड़ा पंजाब के संत संतोषगिरि की झोपड़ी के पास रात में कल्पवासी अलाव ताप रहे थे। अलाव की चिनगारी से झोपड़ी में आग लग गई। अभी आस पास के कल्पवासी संभल पाते कि इससे पहले आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। दो झोपड़ी और दो राउटी धू-धू कर जलने लगी। एक झोपड़ी में संत संतोषगिरि व उनकी पत्नी निशा, पुत्र संस्कार, सोहन, पुत्री वैष्णवी सो रहे थे। शोर शराबे की आवाज पर संतोष गिरि बाहर निकल आए और अंदर सो रहे अपने परिवार के सदस्यों को निकालने का प्रयास करने लगे। बच्चे व पत्नी को निकालने में उनके हाथ भी झुलस गए। इधर अंदर सो रहे परिवार के अन्य उक्त सदस्य भी झुलस गए।

आग को देखकर अन्य कल्पवासी मौके की ओर दौड़े। बड़ी मुश्किल से आग पर काबू पाया। झुलसे संतोषगिरि व उनके परिवार के सदस्यों को सीएचसी से लोहिया अस्पताल भेजा गया। महंत महेंद्र गिरि का आग से एक मोबाइल, कंबल व अन्य सामान जल गया। रुकमणी अपने पिता रामसनेही के यहां आई थी। उसके करीब 15 हजार रुपए, छोटी बहन राजकुमारी के तीन हजार रुपए व पिता के 40 हजार की नगदी जल गई। साधु भूरेलाल के 45 हजार रुपए जल गए। इसमें दो हजार रुपए जले हुए बचे। हरिओमगिरि महंत के भी 40 हजार की नगदी जली और अन्य सामान रामानंद की झोपड़ी में भी बड़ा नुकसान हुआ।

संबंधित खबरें

<< JANUARY 2018>>
SunMonTueWedThuFriSat
123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031
तस्वीर न्यूज़ :- संपर्क
© 2017 Tasveer News. All rights reserved. Powered by Pronto Web Solution